CSC VLE को मिलेगा जनगणना का काम /CSC VLE ENUMERATORS FOR 7TH ECONOMIC CENSUS |

CSC VLE  करेगा 7 वीं आर्थिक जनगणना का काम |

कॉमन सर्विस सेंटर इस साल होने वाली 7 वीं आर्थिक जनगणना के लिए 15 लाख एन्यूमरेटर्स तैयार कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि समान कार्यबल का इस्तेमाल जनसंख्या की जनगणना के लिए भी किया जा सकता है, जो वर्तमान में 10 साल के बजाय हर दो साल में हो सकता है।

1977 से अब तक केवल छह आर्थिक सेंसरशिप बड़े पैमाने पर काम में गहन सर्वेक्षण और डेटा संकलन के कारण किए गए हैं। भारत की जनगणना, जो देश की संपूर्ण आबादी से संबंधित सांख्यिकीय जानकारी देती है, व्यापक सर्वेक्षण और डेटा की विशाल मात्रा की इन चुनौतियों का भी सामना करती है।

सांख्यिकी और कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय (MoSPI) ने आर्थिक जनगणना के संचालन के लिए CSC ई-गवर्नेंस सर्विसेज इंडिया लिमिटेड में भाग लिया है, जो आबादी की जनगणना का मिलान करने के लिए घरों में आयोजित किया जाता है।

“हम देश भर में तीन लाख कॉमन सर्विस सेंटरों का प्रबंधन करते हैं। MoSPI के साथ समझौते के तहत, हम प्रत्येक सीएससी के लिए पांच एन्यूमरेटरों को प्रशिक्षित करेंगे। इससे 15 लाख एन्यूमरेटर्स का बल बनेगा। सीएससी ई-गवर्नेंस सर्विसेज इंडिया के सीईओ डॉ दिनेश त्यागी ने पीटीआई को बताया कि वे हमारे पास मौजूद मोबाइल एप्लिकेशन का उपयोग करके घरेलू स्तर का सर्वेक्षण करेंगे।” 

परियोजना के तहत प्रगणकों को प्रमाणित किया जाएगा और वे जनगणना को संभालने के लिए भी तैयार होंगे। हमने आर्थिक जनगणना के लिए मोबाइल आधारित सॉफ्टवेयर बनाया है। यह छह महीने में सर्वेक्षण पूरा करने में मदद करेगा जो पहले दो साल लेने के लिए उपयोग करता है। इसी तरह, वर्तमान में जनसंख्या की जनगणना आवृत्ति को 10 वर्ष से घटाकर दो वर्ष किया जा सकता है। आर्थिक जनगणना के मामले में, डेटा एकत्र करने के लिए सीएससी प्रगणकों को तीन महीने लगेंगे और रिपोर्ट तैयार करने के लिए अन्य तीन महीनों की आवश्यकता होगी। MoSPI परियोजना, 15 लाख लोगों के लिए नौकरियां पैदा करने के अलावा, अन्य राष्ट्रीय और क्षेत्रीय संगठनों को भी सटीक डेटा प्राप्त करने के लिए जमीनी स्तर के सर्वेक्षण करने में मदद करेगी।

CSC VLE का क्या महत्व रहेगा सातवें आर्थिक जनगणना में |

CSC के कुछ सूत्रों से यह जानकारी निकल कर आ रही है कि CSC VLE अपने अंदर 5 लोगों को जोड़ेगा जो व्यक्ति CSC VLE की मदद करेंगे और वह अपनी ग्राम पंचायत की आर्थिक जनगणना करेंगे इसके लिए उन्हें ट्रेनिंग दी जाएगी. इसके लिए सीएससी का MoSPI के साथ समझौता हो गया है |

CSC VLE की क्या शैक्षिक योग्यता होनी चाहिए इसमें काम करने के लिए |

CSC के कुछ सूत्रों से पता चला है की आर्थिक जनगणना में काम करने के लिए CSC VLE को कम से कम 10 पास होना चाहिए सीएससी के द्वारा बताया गया है कि उनके ज्यादातर VLE हाई स्कूल या इंटरमीडिएट पास है लेकिन मिनिस्ट्री द्वारा इसमें ग्रेजुएशन VLE को ही शामिल करने के बारे में बताया जा रहा है अभी इसकी कोई क्लियर जानकारी निकलकर नहीं आई है लेकिन सीएससी ने 10 पास VLE को भी इसमें शामिल करने का फैसला बताया है.|

CSC VLE को कितनी सैलरी मिलेगी आर्थिक जनगणना में काम करने के लिए |

CSC VLE के मन में यह सवाल हमेशा आ रहा होगा कि हमें आर्थिक जनगणना में काम करने के लिए कितनी सैलरी दी जाएगी तो मिनिस्ट्री ने बताया है कि आर्थिक जनगणना में काम करने के लिए ₹15000 सैलरी होगी. लेकिन सीएससी के मापदंडों से पता चला है कि सीएससी इसको कमिशन बेस पर VLE को यह काम सौंप रही है क्योंकि जो भी VLE जितना काम करेगा उसे उतना अच्छा मुनाफा होगा जिससे सभी VLE मन लगाकर काम करेंगे और इसका जनगणना पर काफी अच्छा असर पड़ेगा सीएससी के द्वारा कमीशन देने का एक बड़ा फैसला सामने आया है लेकिन इसकी पूरी जानकारी अभी निकल कर नहीं आई है .|

CSC ,VLE को जनगणना के पैसे कब भेजेगी |

CSC के कुछ खास सूत्रों से पता चला है कि CSC VLE का पैसा उनके उसी खाते में ट्रांसफर किया जाएगा जो सीएससी एसपीवी के साथ उनके डिजिटल सेवा Wallet से जुड़ा हुआ है |

आर्थिक जनगणना का काम किस तरीके से किया जाएगा |

CSC के द्वारा बताया जा रहा है कि आर्थिक जनगणना करने के लिए सभी VLE को सीएससी की तरफ से एक टेबलेट दिया जाएगा जिसमें एक एप्लीकेशन इनस्टॉल होगा इस एप्लीकेशन के माध्यम से CSC VLE और उनके Invigilators आर्थिक जनगणना का काम संपन्न करेंगे और जैसे ही आर्थिक जनगणना संपन्न हो जाती है तो यह टेबलेट सीएससी के द्वारा वापस ले लिया जाएगा हालांकि इसकी पुख्ता जानकारी निकलकर नहीं आई है .

जनगणना का कार्य कब से शुरू किया जाएगा |

जनगणना का कार्य लगभग मार्च से अप्रैल क्यों महीने तक कार्य शुरू होने की आशंका जताई जा रही है इसमें सबसे पहले सभी डिस्ट्रिक्ट मैनेजर को ट्रेनिंग दी जाएगी इसके बाद सभी CSC VLE को इसकी ट्रेनिंग मुहैया कराई जाएगी उसके बाद ही जनगणना का कार्य शुरू किया जाएगा |

You May Also Like

About the Author: Digital Seva

Leave a Reply

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: